Go to ...

Skill Reporter

Informational updates on skill development, technical vocational education and training

Skill Reporter on Google+Skill Reporter on YouTubeSkill Reporter on LinkedInSkill Reporter on PinterestRSS Feed

January 17, 2018

बंदियों को रोजगार की मुख्यधारा से जोड़ने की तैयारी, कौशल विकास कार्यक्रम के तहत लगाए जा रहे हैं प्रशिक्षण कैंप


महासमुंद (छत्तीसगढ़) :  प्रशासन ने जिला जेल को सुधारगृह बनाने की दिशा में प्रयास शुरू कर दिए है। बंदियों को रोजगार की मुख्यधारा से जोड़ने यहां कौशल विकास कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षण कैंप लगाए जा रहे हैं। जेल के भीतर मशरूम का उत्पादन कर बंदी अब हजारों की आमदनी से अपने घरवालों को लाभान्वित कर सकेंगे। जेल में तैयार होने वाले मशरूम को बाजार में बेहतर रिस्पांस की उम्मीद है। यह जैविक खाद से तैयार किए जाएंगे। जेल प्रबंधन ने इस खेती को बढ़ावा देने के पीछे जेल मैन्युअल का पालन करते हुए बेहतर अवसर देने की बात कर रहे हैं। जेल में विभिन्न अपराधों में बंद कैदियों को छूटने के बाद दोबारा अपराध की ओर बढ़ने से रोकने के लिए जिला जेल में सकारात्मक प्रयास की तैयारी की जा रही है। इन्हें जेल में मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण देकर स्वावलंबी बनाने की तैयारी है।

कैदी भी इस प्रशिक्षण के लिए काफी उत्साहित नजर आ रहे हैं। अफसरों ने कहा कि उनमें व्यावसायिक कौशल का विकास कर समाज की मुख्यधारा से जोड़ने सकारात्मक कोशिश की जा रही है। मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत जिला जेल में मशरूम प्रशिक्षण उत्पादन केंद्र बनाया जाएगा। प्रशिक्षण देने से पहले इसके लिए कैदियों का पंजीयन भी हुआ। साथ ही जेल से छूटने के बाद इस प्रशिक्षण को व्यवहारिक जीवन में शामिल करते हुए अपने परिवार को सुखी जीवन देने का प्रयास करें। कैदियों को मशरूम उत्पादन के साथ सब्जी उत्पादन, काष्ठ कला, फर्नीचर कार्य का भी निशुल्क प्रशिक्षण दिए जाने की तैयारी है। जिला जेल में बंद तकरीबन 400 कैदियों को बारी-बारी से इसका प्रशिक्षण दिया जाना है। प्रशिक्षण के पहले चरण में 62 कैदियों ने इसके लिए पंजीयन कराया है। इन्हें एक माह के भीतर कुल 90 घंटे का प्रशिक्षण दिया जाएगा जिसके बाद वे पूरी तरह फसल उत्पादन की प्रक्रिया में पारंगत हो जाएंगे।

शिव साहू, जेल अधीक्षक, महासमुंद जेल ने कहा कि जेल में कैदियों को मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण देने अलग से तैयारी की गई है। प्रशिक्षण प्राप्त कैदियों को एक बेहतर माहौल और सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। प्रशासन की इस पहल से विभिन्न अपराधों में बंद कैदियों की सोच अब अपराधवृत्ति से हटकर व्यावसायिक सोच विकसित होगी।

Note: News shared for public awareness with reference from the information provided at online news portals.

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

More Stories From Regional