Go to ...

Skill Reporter

Informational updates on skill development, technical vocational education and training

Skill Reporter on Google+Skill Reporter on YouTubeSkill Reporter on LinkedInSkill Reporter on PinterestRSS Feed

February 25, 2018

रूक्टा अधिवेशनः अब कॉलेज शिक्षक बनेंगे प्रोफेसर, मुख्यमंत्री ने की और भी कई घोषणाएं


जयपुर (राजस्थान) : कॉलेज शिक्षकों की बरसों से खुद को प्रोफेसर कहलाने की तमन्ना अब पूरी हो सकेगी। बुधवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने आरयू के कॉन्वोकेशन सेंटर पर इसकी घोषणा की।

शिक्षक संघ रूक्टा राष्ट्रीय के प्रांतीय अधिवेशन में मुख्यमंत्री ने शिक्षकों की इस घोषणा को पूरा करने के साथ ही प्रदेश के मुकबधिर, दृष्टिहीन छात्रों के लिए ग्लोबल सेंटर बनाने की बात भी कही। यूनिवर्सिटीज की तरह अब कॉलेजों के टीचर्स भी असिस्टेंट, एसोसिएट और प्रोफेसर की पदवी हासिल कर सकेंगे।

मुख्यमंत्री राजे ने अपने संबोधन में शिक्षकों को कहा कि सब मिलकर प्रदेश को आगे बढ़ाने का संकल्प पूरा कर कर रहे हैं। सरकार ने तीन साल में स्वास्थ्य और शिक्षा पर खूब फोकस किया। शुरुआती दौर में स्कूली शिक्षा पर प्रभावी ध्यान दिया गया। अब सरकार का ध्यान उच्च शिक्षा और युवाओं के रोजगार पर है। यहीं कारण है कि हाल ही में कॉलेजों में 13 सौ व्याख्याताओं की भर्तियों की जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई नए कॉलेज खोले गए, कॉलेजों में नए विषयों को शुरू किया गया और पच्चीस फीसदी सीटें, 140 करोड़ छात्रवृत्तियां बांटी गई। कॉलेजों में दिसम्बर 2018 तक सभी रिक्त पद भरने की कोशिश है, शारीरिक शिक्षक और लाइब्रेरियन की भी भर्ती की जाएंगी।

उन्होंने कहा कि 1 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी, 10 लाख को कौशल विकास से रोजगार दिया गया, जबकि अब चार लाख से भी ज्यादा रोजगार और दे सकेंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरी के प्रति लोगों को मानसिकता बदलनी होगी।

सीएम ने ये भी कहा कि सरकार मुकबधिर, दृष्ठिहीन और विकलांग विद्यार्थियों के लिए एक ग्लोबल इंस्टिट्यूट बनाया जाने की प्लानिंग कर रही हैं, जिससे उनके उच्च अध्ययन की राह आसान हो सके। राजे ने कॉलेज शिक्षकों को कहा कि वे महज ओपीनियन मेकर नहीं है, ब्लकि विद्यार्थियों का भविष्य बनाते हैं। शिक्षकों को अपने अध्ययन के साथ छात्रों के स्वरोजगार पर ध्यान देना चाहिए। स्कूल और कॉलेज में कौशल विकास पर देना जरूरी होगा। यहीं नहीं हमारी शोध जन उपयोगी बने और सरकार के कार्य आ सके. ऐसा प्रयास करना होगा।

इधर, पदनाम परिवर्तन की घोषणा के बाद कॉलेज शिक्षकों में खुशी की लहर देखने को मिली। शिक्षकों ने कहा कि सालों से इस मांग के पूरे होने का इंतजार था जो आज पूरा हो सका। समारोह में पूर्व कुलपति जेपी सिंघल समेत बड़ी संख्या में कॉलेज शिक्षक मौजूद रहे।

Note: News shared for public awareness with reference from the information provided at online news portals.

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

More Stories From Regional