Go to ...

Skill Reporter

Informational updates on skill development, technical vocational education and training

Skill Reporter on Google+Skill Reporter on YouTubeSkill Reporter on LinkedInSkill Reporter on PinterestRSS Feed

April 22, 2018

उत्तराखण्ड स्किल डेवलपमेंट मिशन और डोमेस्टिक वर्कर स्किल काउंसिल के बीच गुणवत्ता वृद्धि को लेकर एक एमओयू


देहरादून : गुरुवार को उत्तराखण्ड स्किल डेवलपमेंट मिशन और डोमेस्टिक वर्कर स्किल काउंसिल के मध्य कौशल विकास की गुणवत्ता वृद्धि को लेकर एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इस पर यूकेएसडीएम के निदेशक डॉक्टर पंकज कुमार पाण्डेय और स्किल काउंसिल के सीईओ मेजर जनरल (रिटायर्ड) मनीष सबरवाल ने हस्ताक्षर किए।

यूकेएसडीएम के निदेशक डॉक्टर पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि प्रस्ताव है कि मिशन पांच आईटीआई में हाउसकीपिंग क्षेत्र में प्रशिक्षण देगा। मिशन द्वारा जिला कारागार, देहरादून में प्रशिक्षण शुरू किए जाने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है।

आईटीआई देहरादून और काशीपुर में ब्यूटी एण्ड वेलनेस सेक्टर के क्षेत्र में प्रशिक्षण हेतु सेंटर ऑफ़ एक्सीलेंस स्थापित किया जाना प्रस्तावित है। मिशन द्वारा पांच क्षेत्रों में रिकॉगनिशन ऑफ़ प्रायर लर्निंग (आरपीएल) में किए जाने के प्रस्ताव नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) को भेजे गए हैं।

मिशन द्वारा राज्य की कौशल जनशक्ति की मांग और पलब्धि के आकलन हेतु स्किल गैप स्टडी कराई जा रही है, जिसके लिए कार्यदाई संस्था का चयन किया जा चुका है। मिशन द्वारा राज्य की स्किल पॉलिसी तैयार किए जाने का कार्य किया जा रहा है।

इस अवसर पर डॉक्टर पाण्डेय ने बताया कि भारत सरकार की महत्वकांक्षी प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 2.0 का राज्य में क्रियान्वायन उत्तराखण्ड कौशल विकाश मिशन द्वारा किया जा रहा है। इस योजना के अन्तर्गत आगामी तीन वर्षों में 44,000 युवाओं को प्रशिक्षित किए जाने का लक्ष्य है और वर्ष 2017-18 में 13,200 युवाओं को प्रशिक्षित किए जाने का लक्ष्य है।

उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन वर्ष 2016-17 में कुल 120 प्रशिक्षण प्रदाताओं के माध्यम से 12,963 युवाओं को 32 विभिन्न क्षेत्रों में निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया गया। इनमें 6,627 महिलाएं एवं 6,067 पुरुष है। ज़िला कारागार, देहरादून और हरिद्वार तथा नारी निकेतन, देहरादून में 836 बन्दियों को भी प्रशिक्षण प्रदान किया गया ताकि वे रिहा होने पर उक्त प्रशिक्षण के आधार पर रोज़गार/स्वरोज़गार के अवसर प्राप्त कर बेहतर जीवन यापन कर सकें।

उन्होंने बताया कि उत्तराखण्ड कौशल विकास मिशन द्वारा आम जनता को कुशल जनशक्ति उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ’कुशल उत्तराखण्ड ऐप’ विकसित किया गया है। इस ऐप के माध्यम से कोई भी अपनी आवश्यकतानुसार अपने क्षेत्र में उपलब्ध कुशल कर्मकार से संपर्क कर सकता है। वर्तमान में इस ऐप में 13,000 से अधिक कर्मकार पंजीकृत हैं।

उत्तराखण्ड कौशल विकास समिति को सूचना प्रौद्योगिकी के अभिनव उपयोग हेतु पेरिस में आयोजित द्वितीय विश्व कौशल सम्मेलन में सम्मिलित किया गया है। आईटीआई हरिद्वार एवं देहरादून में सीसीटीवी सिक्यूरिटी कैमरा का इन्स्टॉलेशन एण्ड रिपेयर का प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है।

Note: News shared for public awareness with reference from the information provided at online news portals.

Tags: , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,

More Stories From Collaborations